बेस्ट हेल्थ इन्शुरन्स प्लान चुनने के लिए 13 प्रैक्टिकल टिप्स

आज हेल्थ इन्शुरन्स पॉलिसी प्रत्येक व्यक्ति के लिए आवश्यक है, चाहे वह व्यक्ति किसी भी आयु या आय श्रेणी से हो। अपने या अपने परिवार के लिए हेल्थ कवर खरीदने से पूर्व हमें काफ़ी सोच विचार करना चाहिए जैसे परिवार की चिकित्सा ज़रूरत व परिवार का आकर इत्यादि। बेस्ट हेल्थ इन्शुरन्स प्लान खरीदने के लिए कुछ ज़रूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए जिन्हे नीचे टिप्स के माध्यम से बताया गया है:-

हेल्थ इन्शुरन्स प्लान चुनने के टिप्स

टिप # 1:

हमेशा छोटी उम्र में ही एक इंडिविजुअल हेल्थ इन्शुरन्स पॉलिसी खरीद लेनी चाहिए। अन्यथा, इन्शुरन्स महंगा हो जाता है क्योंकि आपकी आयु ज़्यादा हो जाती हैं।

टिप # 2:

अपने परिवार के लोगों की आवश्यकता व आकार के अनुसार इंश्योरेंस राशि की सही मात्रा चुनें। धूम्रपान करने वालों, मोटापे से ग्रस्त व्यक्तियों और निष्क्रिय जीवन शैली वाले लोगों में हेल्थ जोखिम अधिक होता है। इसमें उच्च आवरण की आवश्यकता होती है।

टिप # 3:

मान लीजिए, आप 4 (2 वयस्कों और 2 बच्चों) के परिवार के लिए हेल्थ कवरेज खरीद रहे हैं, तो आप निम्न में से कुछ कर सकते है:

  • परिवार के प्रत्येक सदस्यों के लिए अलग-अलग कवर खरीदें और कवर बढ़ाने के लिए एक अतिरिक्त फैमिली फ्लोटर प्लान खरीदें।
  • दूसरा विकल्प फैमिली फ्लोटर खरीदना और फिर एक टॉप-अप / सुपर टॉप-अप पॉलिसी खरीदना है, जिसकी डिडक्टिबल राशि फैमिली फ्लोटर पॉलिसी की इंश्योरेंस राशि के बराबर हो।

टिप # 4:

न्यूनतम बहिष्करण वाली पॉलिसी चुनें। एक ऐसा प्लान खरीदें जो अस्पताल में भर्ती होने की लागत का 100%, सामान्य डे-केयर प्रक्रियाओं और पूर्व और बाद के अस्पताल में भर्ती खर्च का एक हिस्सा शामिल करता है।

उन योजनाओं का विकल्प न चुनें जिनमें सह-भुगतान विकल्प है ।

टिप # 5:

पॉलिसी ऐसी चुनें जो जीवन भर का नवीनीकरण प्रदान करे। क्योंकि इससे आप वृद्ध होने के बाद भी अपने हेल्थ कवर का लाभ उठा सकते है और आयु बढ़ने के साथ आपको हेल्थ समस्याओं से समझौता नही करना पड़ता।

टिप # 6:

ऐसा हेल्थ इन्शुरन्स प्लान न खरीदें, जिसमें प्रति दिन खर्च या कमरे के किराए पर उप-सीमा हो। ऐसी पॉलिसी आपको चिकित्सा आपात स्थिति में मुसीबत मे डाल सकती है और आप इलाज पर अपना ध्यान केंद्रित नही पाते है।

बेस्ट हेल्थ इन्शुरन्स कंपनी इन इंडिया

टिप # 7:

आपके हेल्थ इन्शुरन्स प्लान में गंभीर बीमारियों के लिए अस्पताल में भर्ती होने का खर्च भी शामिल होना चाहिए। अगर आपको या आपके परिवार के किसी सदस्य को गंभीर बीमारी का पता चला है, तो कोई “क्लेम लोडिंग” नहीं होना चाहिए। क्लेम लोडिंग एक ऐसी सुविधा है जिसमें इन्शुरन्स कंपनी आपके प्रीमियम को साल-दर-साल बढ़ाती रहती है, यदि आप गंभीर बीमारी से पीड़ित होते हैं।

टिप # 8:

पहले से मौजूद बीमारियों के लिए प्रतीक्षा अवधि की जाँच करें। आमतौर पर, अधिकांश इन्शुरन्स पॉलिसियों में प्रतीक्षा अवधि 2 साल होती हैं लेकिन कुछ में 4 साल तक भी होती हैं।

टिप # 9:

नेटवर्क और गैर-नेटवर्क अस्पतालों में इलाज के लिए क्लॉस देखें। कई बीमाकर्ता लागत का केवल 70-80% प्रतिपूर्ति करते हैं यदि आप एक गैर-नेटवर्क अस्पताल में इलाज करते हैं। एक ऐसे हेल्थ इन्शुरन्स प्लान की खोज करें जो आपके हॉस्पिटल के 100% खर्चो की प्रतिपूर्ति करे।

टिप # 10:

यदि आप वृद्ध माता-पिता के लिए हेल्थ कवर खरीद रहे हैं, तो उन बीमारियों और चिकित्सा प्रक्रियाओं की सूची देखें जो कवर नहीं हैं । आपकी पॉलिसी को मोतियाबिंद और घुटने की सर्जरी जैसे वृद्ध लोगों द्वारा आवश्यक सामान्य सर्जरी के लिए कवर होना चाहिए।

टिप # 11:

कोई भी गंभीर बीमारी (हेल्थ, फेफड़े, कैंसर) होने से पहले पॉलिसी खरीदें। कई पॉलिसियों में क्लियर-कट क्लॉज़ हैं कि ऐसी किसी भी बीमारी की शुरुआत से पहले पॉलिसी को खरीदा जाना चाहिए। ऐसा ना करने पर आपको प्रतीक्षा अवधि के क्लॉज़ से गुज़रना पड़ सकता है।

टिप # 12:

यदि आप अपना हेल्थ कवर बढ़ाना चाहते हैं तो एक बड़ा कवर पाने के लिए बहुत कम प्रीमियम पर एक टॉप-अप / सुपर टॉप-अप पॉलिसी खरीदें।

टिप # 13:

जैसे-जैसे आप बूढ़े होते हैं, अपने और अपने जीवनसाथी के लिए अलग-अलग पॉलिसी खरीदें। यह एक महत्वपूर्ण कदम है क्योंकि फैमिली फ्लोटर प्लान्स समूह में सूचीबद्ध सबसे बड़े व्यक्ति के नाम के खिलाफ जारी की जाती हैं। यदि सबसे बड़ा व्यक्ति गुजर जाता है, तो पॉलिसी बंद हो जाती है और शेष परिवार के सदस्यों को उच्च प्रीमियम दरों पर नई पॉलिसी खरीदनी पड़ती है।

इससे पहले कि हम सर्वोत्तम हेल्थ इन्शुरन्स पॉलिसीयों को देखें, आइए हम हेल्थ पॉलिसीयों की विशेषताओं और लाभों का वर्णन करने के लिए उपयोग किए जाने वाले कुछ सामान्य शब्दों को समझें।

भारत में टॉप 6 हेल्थ इन्शुरन्स कंपनी के बारे में जाने

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *